Breathing (Saans lena :: सांस लेना) by Gulzar

What kind of a habit is breathing
What kind of a tradition is it to keep on living
Not even a slight movement in the body anywhere
No shadow in the eyes
The feet are stunned, they keep on moving
There is a journey, that keeps on flowing
For how many years, how many centuries
Keep on living, keep on living

Habits are such strange things…

Note: I translated this poem into English above. If you have the original in the Arabic script instead of the Devanagiri script in Urdu, please let me know.

सांस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पांव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र में जो बहता रहता है
कितने बरसों से कितनी सदियों से
जीये जाते हैं जीये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं…

4 thoughts on “Breathing (Saans lena :: सांस लेना) by Gulzar

  1. سانس لینا بھی کیسی ‏عادت ہے
    جییے جانا بھی کیسی روایت
    کوئی آہٹ نہیں بدن میں کہیں
    کوئی سایہ نہیں آنکھوں میں
    پانو بے حس ہیں، چلتے جاتے ہیں
    اک سفر میں جو بہتا رہتا ہے
    کتنے برسوں سے کتنی صدیوں سی
    جییے جاتے ہیں جییے جاتیں ہیں

    عادتیں بھی عجیب ہوتی ہیں۔۔۔

    बहन, क्या आपका अनुवाद में और भी काम करने का इरादा है? तो आप अंग्रेज़ी से हिंदी में अनुवाद क्यों नहीं करती बजाए हिंदी से अंग्रेज़ी में। अनुवाद-शास्त्र का शाश्वत सिद्धांत है कि “अनुवादक की मातृभाषा ही अनुवाद की लक्ष्य भाषा हो सकती है”।

    ऊपर मैंने उर्दू में टाइप कर दिया है, वर्तनियाँ सही हैं।

  2. You assume that my mother tongue is Hindi, so I should translate from English to Hindi. Just like you, I think translating into one’s mother tongue is a very good idea, and not into a second language.

    But my mother tongues are Hindi, English and Sindhi (although I can’t read and write Sindhi). I am equally comfortable in Hindi and English, and grew up learning to speak, read and write both of them at the same time. As English is also my mother tongue I don’t see any problem in me translating into English.

    I hope that clarifies it.

    thanks for your comment, and especially thanks for the Urdu translation.

  3. हाँ, मैं यही मानकर चलता हूँ कि भारत के लोग L1 स्तर की अंग्रेज़ी नहीं बरत सकते। ख़ैर।

  4. आप सोच रहे हैं की मैं भारत की रहने वाली हूँ| पर मैं भारत मे नहीं रहती, वहां बचपन से १३ बरस तक रही थी| और, हाँ, मैं हिंदी में “ट्रांस्लाते” नहीं कर सकती, पर बचपन से अंग्रेजी पाठशाळा में पढ़ी, हिंदी पाठशाला में नहीं, और कौन सी पाठशाला में पढने वो किसी ने मुझ से नहीं पूछा!
    मुझे दुःख होता है की आज कल हम सब हिंदी भूल रहे हैं|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s