If only he was not Binayak Sen (काश के वो बिनायक सेन ना होता) by Rizvi Amir Abbas Syed

If only he were a murderer of Sikhs, or involved in the massacre in Gujarat
If only he were one of the malpractitioners at a private hospital
If only he were an agent for a multinational company
If only he were a merchant of national property

If only he were a member of violence inciting Salwa Judum
If only he could conduct a Rath Yatra in the name of language, religion, mosque, or a temple
If only he were a corrupt police officer
If only he were an agriculture minister letting the grain produced by hardworking farmers rot

If only he were a religious guru distributing Trishools to people
If only he were a hate spewing Mullah on TV channels
If only he were a minister uprooting forests to make way for mines
If only he were a nationalist who feels proud about tortures committed by the armed forces and the police

If only he would make a public statement on sacrificing humanity for one’s pride
If only he didn’t have any compassion or empathy in his heart
If only he didn’t leave his cozy life and went to villages to serve the marginalized
If only he was a sleeping citizen like you or I

If only he was happily immersed in his family and businesses
If only he would mock Gandhi’s ideals
If only he wouldn’t follow the Hippocratic oath
If only he would surrender to corruption, injustice and bullies

If only he were a security guard letting terror enter India for a bribe
If only he would deliver news to distract people from the issues of the poor and the farmers
If only he would sing and dance with the Nobel Peace Prize winner Mr. Obama
If only his heart wouldn’t beat for human rights

Then today
Binayak wouldn’t be called a villain in this country
There wouldn’t be any prosecution, nor a charge for treason
He would be free and far from the chains of life imprisonments, and well respected
If only though, if only.

काश के वो सिखों का हत्यारा होता, या गुजरात के नरसंघार में शामिल होता
काश के वो प्राइवेट अस्पताल के लुटेरे डाक्टरों में से एक होता
काश के वो किसी मल्टीनेशनल कंपनी का दलाल होता
काश के वो राष्ट्रीय धरोहर को बेचने वाला बनिया होता

काश के वो हिंसा प्रेरित करने वाले सलवा-जुडूम का सदस्य होता
काश के वो भाषा, धर्म, मस्जिद, मंदिर के नाम पर रथ यात्रा निकाल पाता
काश के वो घूसखोर पुलिस का अफसर होता
काश के वो किसान की मेहनत से उपजे अनाज को सड़ाने वाला कृषि मंत्री होता

काश के वो त्रिशूल बाँटने वाला धार्मिक गुरु होता
काश के वो टीवी चेन्नलों पर नफरत फैलाने वाला कठमुल्ला होता
काश के वो जंगलों को उजाड़ कर खदान बनाने वाला मंत्री होता
काश के वो पुलिस और सेना के अत्याचार पर गर्व करने वाला राष्ट्रवादी होता

काश के वो अहम् की खातिर इंसानियत की बलि चढ़ाने वाले वक्तव्य देता
काश के उसके हृदय में करुना और दया नाम की कोई चीज़ न होती
काश के वो अपने सारे सुख और चैन तो त्याग कर गाँव की सेवा में ना जाता
काश के वो भी हम आप जैसे सोये हुए नागरिकों में से एक होता

काश के वो भी अपने परिवार और व्यापार में व्यस्त और मस्त होता
काश के वो महात्मा गाँधी के आदर्शों का मज़ाक़ उड़ा पता
काश के वो डाक्टरों द्वारा ली गयी शपथ का पालन नहीं करता
काश के वो भ्रष्ट अन्यायपालिका और दबंगों के आगे घुटने टेक देता

काश के वो घूस लेकर आतंक को भारत में प्रवेश देने वाला सुरक्षा कर्मी होता
काश के वो देश को गरीबों और किसानो की समस्या से बहकाने वाली न्यूज़ सुनाता
काश के वो नोबेल शांति पुरूस्कार के विजेता ओबामा साहब के साथ नाचता गाता
काश के उसका दिल मानवाधिकार के लिए नहीं धड़कता

तो आज
बिनायक देश का खलनायक नहीं कहलाता
न कोई कार्यवाही होती, न ही देशद्रोही का इलज़ाम गढ़ा जाता
उम्र क़ैद की जंजीरों से दूर वो भी सम्मानीय और स्वतंत्र होता
काश, काश, काश !!!

Note: Translated into English from the original Hindi by the poet himself.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s